जब वह आपके भीतर ही आत्मारूपी मंदिर में विद्यमान रहता हो तब उसे प्रतिमाओं में क्यों तलाशना ?