महानता बड़ी-बड़ी बातें करने में नहीं बल्कि बड़े - बड़े काम करने में है।