किसी के साथ रिश्ते बनाने से आशय विश्वास उत्पन्न करना है

" Making relation with someone means to create the faith that in need you will be helpful to him without hesitation."


जिस दौर में पारिवारिक रिश्तों तक में आत्मीयता विलुप्त होती जा रही हो तब उन अनजान लोगों से रिश्ते बनाना आश्चर्यजनक लगता है जिनसे कोई पुराना ताल्लुकात न हो ।



वैसे भी कोई किसी की मदद बिना मतलब के करेगा ये विश्वास करना मुश्किल है किन्तु अगर दूसरों का भरोसा हासिल किया जा सके तो रिश्तों में निःस्वार्थ निकटता का अनुभव किया जा सकता है । वरना वे औपचारिकता बनकर रह जाते हैं ।


इसी सोच से प्रभावित होकर मप्र के जबलपुर शहर में छह वर्ष पूर्व विराट हॉस्पिस नामक एक संस्थान शुरू किया गया जो ऐसे कैंसर मरीजों की पीड़ा दूर करने कार्यरत है जो मृत्यु की प्रतीक्षा करने मजबूर हो जाते हैं ।


विराट हॉस्पिस को ब्रह्मलीन ब्रह्मर्षि स्वामी विश्वात्मा बावरा जी महाराज की प्रेरणा से उनकी सुयोग्य शिष्या साध्वी दीदी ज्ञानेश्वरी द्वारा प्रारम्भ किया गया ।


जिन कैंसर मरीजों की परिवार में कहीं भी देखरेख नहीं हो पाती , उन्हें यहां 24 घंटे प्रशिक्षित नर्सिंग स्टाफ की सेवाएं प्रदान की जाती है।


यह प्रकल्प बिना शासकीय सहायता के सामाजिक सहयोग से संचालित हो रहा है।


विराट हॉस्पिस ने समाज के समक्ष विश्वास का जो उदाहरण पेश किया उसके कारण कैंसर की अंतिम अवस्था के मरीज निःसंकोच यहां आ जाते हैं।


उन्हें घरेलू माहौल में रखकर जरूरी सेवा-सुश्रुषा, दवाइयाँ, जरूरी इलाज के अलावा एक सहयोगी के साथ भोजन तथा रहने जैसी सभी सुविधाएं पूर्णतः निःशुल्क उपलब्ध करवाई जाती हैं।


विराट हॉस्पिस को एक अत्याधुनिक रूप देते हुए जनसहयोग से तीन एकड़ भूमि पर भेड़ाघाट के समीप स्थित गोपालपुर ग्राम में एक सुविधाजनक भवन निर्मित किया गया है जिसमें 28 मरीजों और उनके परिजनों के लिए समुचित व्यवस्थाएं है।


शीघ्र ही यहां 48 बिस्तरों के साथ ही रेडियेशन सुविधा भी उपलब्ध होगी ।


प्रकृति के सान्निध्य की वजह से ये परिसर मरीजों को असीम मानसिक शांति प्रदान कर रहा है।


यहां आने वाले मरीज पूरी तरह अपरिचित होने के बाद भी आत्मीय बन जाते हैं क्योंकि उनके मन में हरसम्भव खुशी देने का विश्वास जगाया जाता है।


हर्ष का विषय है कि मानवता की सेवा के इस पुण्य कार्य में 1040 से अधिक मरीज अब तक सेवाएं ले चुके हैं।


विश्वास है इस नेक काम में आप भी सहयोगी बनना चाहेंगे?


विराट हॉस्पिस में आपकी सहभागिता हमारे हौसले को और बुलन्द करेगी यह विश्वास है।

1 view0 comments

Recent Posts

See All

असफलता सफ़लता की दिशा में नई शुरुवात भी बन सकती है

" Failure can become new beginning of Success." व्यतीत हो चुके वक़्त में जो नहीं हो सका उस पर दुख करने की बजाय अच्छा होता है कि सफलता के नए रास्तों पर आगे बढ़ा जावे । अनुभव बताते हैं असफलता व्यक्ति मे

कठिन कार्य भी सरलता से हो जाते हैं यदि उसके पीछे की भावना पवित्र हो

" Difficult works also become easier if intention behind that is holy." अभिप्राय ये है कि परोपकार करते समय आने वाली कठिनाइयों की चिंता नहीं करनी चाहिए । मन में कोई निहित स्वार्थ न हो तो ईश्वर अदृश्य

जिनका समय खराब है उनका साथ दो

" जिनका समय खराब है उनका साथ दो पर जिनकी नीयत खराब है उनका साथ छोड़ देना चाहिए ।" "Do live with people who are going through bad times, but leave those who have bad intention." हम सभी को अनेक लोग ऐसे म