अनेक लोग ईश्वर से धन की प्रार्थना करते हैं और बाद में उसे दान कर खुद को महिमामण्डित करते हैं